The Cover Logo

राजस्थान में सियासी जंग की रफ़्तार थमी, गहलोत और पायलट मिलकर चलाएंगे सरकार

News Editor Wednesday 12th of August 2020 at 03:57:04 PM Politics
राजस्थान में सियासी जंग की रफ़्तार थमी, गहलोत और पायलट मिलकर चलाएंगे सरकार

राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट के खेमे की सुलह हो गयी है। इस पर  बहुजन समाज पार्टी  की नेता मायावती ने मंगलवार को कहा कि राजस्थान के राज्यपाल को राज्य में ‘गंभीर राजनीतिक स्थिति' का संज्ञान लेना चाहिए ताकि लोगों को राजनीतिक अनिश्चितता से छुटकारा मिल सके। उन्होंने कहा कि राजस्थान में भले ही कांग्रेस सरकार हाल में विधायकों की बगावत से बच गई लेकिन कोई नहीं जानता कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनके पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच फिर कब से ‘ड्रामा' शुरू हो जाए। इसका कुछ पता नहीं है, मायावती ने एक बयान में कहा कि गहलोत और पायलट के बीच लंबी सियासी रस्साकशी के बीच कोरोना वायरस के खिलाफ राज्य की लड़ाई और जनता के अन्य महत्वपूर्ण काम प्रभावित हो रहे हैं। इसके साथ ही बसपा सुप्रीमो ने कहा कि बसपा इसका विरोध नहीं करेगी बल्कि स्वागत करेगी।

कांग्रेस में जारी राजनीतिक संकट अब जब खत्म हो गया है तो दोनों ओर के विधायक साथ काम करने की बातें कर रहे हैं। सचिन पायलट गुट के विधायक और पूर्व मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि सचिन पायलट के लिए जो भाषा इस्तेमाल की गई, उससे हमें काफी दुख पहुंचा था।उन्होंने कहा ,  '' मीडिया की खबरों पर आम जनता ध्यान न दे हमने कभी ऐसा नहीं कहा कि हम भाजपा में जाएंगे।इस तरह की ख़बरों से सिर्फ और सिर्फ सचिन पायलट खेमे की तस्वीर को आम लोगो के बीच में  ख़राब करने की कोशिश की गयी है।

पूर्व मंत्री ने कहा कि अब पार्टी की ओर से एक कमेटी बनाई गई है, जो जल्द ही समस्याओं का हल निकालेगी। पूर्व मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि मैं और सचिन पायलट राजस्थान के बाहर अपने-अपने घरों में रुके, जबकि जिन विधायकों के पास बाहर घर नहीं है वो होटल में रहे। विश्वेंद्र सिंह का कहना है कि राजस्थान से बाहर होने के बाद भी वो लगातार कोरोना वायरस संकट पर बैठकों में हिस्सा ले रहे थे और अपने क्षेत्र के अधिकारियों से बात कर रहे थे। गौरतलब है कि विश्वेंद्र सिंह वही मंत्री हैं जिन्हें पद से हटाया गया था और पार्टी से सस्पेंड कर दिया गया था। बगावत के दौर पर वो ही ट्विटर पर सबसे मुखर रहे।


News Editor-: Brijanish kumar

Top